दिल्ली पुलिस की इस कार्रवाई के बाद मोहम्मद ज़ुबैर बड़ी मुश्किल में फंस सकते हैं ?

Spread the love

ऑल्ट न्यूज़ (Alt News) के सह-संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर पर दिल्ली पुलिस ने अपराधिक साजिश रचने और सुबूत मिटाने की दो और मज़ीद धाराएं लगाई हैं। 27 जून को उन्हें दिल्ली पुलिस(Delhi Police) ने भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए और 295 के तहत गिरफ्तार किया था। आज ज़ुबैर को पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) में चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट स्निगधा सरवरिया की अदालत में पेश किया गया। जहां सरकारी वकील अतुल श्रीवास्तव ने पूछताछ के लिए कोर्ट से 14 दिन की पुलिस हिरासत की मांग की। इससे पहले चार दिन की पुलिस कस्टडी कोर्ट द्वारा मिली थी जो आज शनिवार को समाप्त हो गई।

वहीं आज 2 जून को दिल्ली की पटियाला हाऊस कोर्ट ने जुबैर की ज़मानत अर्ज़ी खारिज कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। कोर्ट ने कहा दिल्ली पुलिस द्वारा की जा रही जांच के दौरान जमानत देने का कोई आधार नहीं है।

वरिष्ठ सरकारी वकील अतुल श्रीवास्तव ने अदालत से कहा कि पूछताछ में कई नई चीज़ें सामने आई हैं जिसे देखते हुए दिल्ली पुलिस ने आईपीसी की दो धाराएं 120-बी और 201 के साथ फॉरेन कंट्रीब्यूशन एक्ट की धारा 35 भी लगाई है। बता दें कि 120-बी आपराधिक साजिश रचने और 201 सुबूत मिटाने की धारा है। दिल्ली पुलिस का दावा है कि मोहम्मद ज़ुबैर के खिलाफ सोशल मीडिया मॉनिटरिंग के दौरान ट्विटर हैंडल पर एक शिकायत मिली ती जिसके बाद ज़ुबैर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

मोहम्मद ज़ुबैर पर पहले भी लगे कई आरोप

शिकायतकर्ता ने कथित रुप से ज़ुबैर पर जानबूझकर एक धर्म का अपमान करने का आरोप लगाया था। जिस पर दिल्ली पुलिस का कहना है कि छानबीन में मोहम्मद ज़ुबैर की भूमिका आपात्तिजनक पाई गई और उन्होंने इंवेस्टिगेशन में कोई सहयोग भी नहीं किया। जिस कारण पुलिस को उन्हें कस्टडी में रखकर पूछताछ करने की ज़रुरत पेश आई और इसलिए उन्हें अरेस्ट कर अदालत में पेश किया गया। हालांकि बाद में वह ट्विटर हैंडल डिलीट हो गया जिसके आधार पर पुलिस ने यह मामला दर्ज किया था।

इससे पहले भी मोहम्मद ज़ुबैर पर उनके ट्वीटस को लेकर कई आरोप लग चुके हैं। बीते मई में बीजेपी पूर्व प्रवक्ता नूबुर शर्मा के विवादित बयान का वीडियो क्लिप ज़ुबैर ने शेयर किया था। जिस पर नूपुर शर्मा ने ज़ुबैर पर माहौल खराब करने, सांप्रदायिक टकराव पैदा करने और नफरत को बढ़ावा देने वाली झूठी खबर फैलाने का आरोप लगाते हुए दिल्ली पुलिस से शिकायत की थी।

कौन हैं ऑल्ट न्यूज़ (Alt News) के पत्रकार ज़ुबैर

इसके अलावा ज़ुबैर के खिलाफ कुछ दिनों पूर्व राषट्रीय हिंदू शेर सेना की ओर से की गई शिकायत पर खैराबाद थाने में धारा 295 ए के तहत मामला दर्ज किया गया था। यह मामला ज़ुबैर की एक ट्विटर पोस्ट के विरुद्ध दर्ज हुआ था जिसमें उन्होंने बजंरग मुनि, यति नरसिंहानंद सरस्वती और आनंद स्वरुप को हेट मांगर कहा था। इन तीनों ही लोगों पर हरिद्वार में आयोजित एक ‘धर्म संसद’ में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में एक मामला दर्ज हुआ था।

बता दें कि मोहम्मद ज़ुबैर एक फैक्ट चेकर वेबसाइट ऑल्ट न्यूज़ के सह संस्थापक हैं जो 2017 से काम कर रही है। इसके संस्थापक प्रतीक सिन्हा हैं। इस वेबसाइट की शुरुआत से पहले ज़ुबैर टेलीकॉम इंडस्ट्री में काम करते थे। जहां उन्होंने लगभग तेरह साल काम किया। ज़ुबैर की गिरफ्तारी पर राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कड़ी प्रतिक्रियाएं सामने आयी हैं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment