आगरा :  बेरोज़गारी से तंग आकर युवक ने पत्नी और बच्ची समेत लगाई फांसी !

Spread the love

उत्तर प्रदेश के आगरा से बुधवार सुबह एक दिल को दहला देने वाली खबर आई है। यहां बेरोज़गारी से तंग आकर सिकंदरा थाना क्षेत्र के सेक्टर 10 में एक ही परिवार के तीन सदस्यों ने आत्महत्या कर ली। तीनों फांसी के फंदे पर लटके मिले। मौके से पुलिस को सुसाइड नोट बरामद हुआ है। जिसके आधार पर पुलिस ने इसे बेरोज़गारी के चलते उठाया गया कदम बताया है।

बताया जा रहा है कि मंगलवार रात को पूरा परिवार एक साथ सोया था। सुबह जब मृतक शख्स का बेटा जागा तो उसने तीनों को फांसी के फंदे पर लटके देखा। बेटे पड़ोसियों को जानकारी दी। आवास विकास कॉलोनी के रहने वाले सोनू अपनी पत्नी गीता और आठ साल की बेटी के और बेटे के साथ रहते थे। झकझोर देने वाली ये घटना आगरा के सिकंदरा इलाके की आवास विकास कॉलोनी के सेक्टर 10 की है।

परिवार ने बेरोज़गारी के कारण आत्महत्या को नकारा

वहीं मृतक सोनू की मां का कहना है कि उस पर किसी भूत-प्रेत का साया है। उनका कहना है कि मेरे बेटे को कोई परेशानी नहीं थी। मृतक के भाई का कहना है कि कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। परिवार आराम से रह रहा था। भाई ने कहा कि इतना जरूर है कि सोनू कई महीने से काम नहीं कर रहा था।

दो साल से लॉकडाउन होने पर सोनू ने काम करना बंद कर दिया। जो भी खर्चा होता था, वह मां बाप ही उठाते थे। सभी खर्च राशन से चलता था। काम नहीं करने पर उसके बच्चों की पढ़ाई भी छूट गई थी। घर में अब 10 साल का बेटा श्याम बचा है। सोनू, उसकी पत्नी गीता और आठ साल की बेटी सृष्टि की मौत से मोहल्ले के लोग स्तब्ध हैं।

मृतक दंपती के बेटे का रो-रोकर बुरा हाल है। मौके पर डॉग स्क्वायड को बुलाया गया है। घटनास्थल पर गहनता से जांच की गई है। दंपती और उनकी बेटी की मौत से मोहल्ले के लोग स्तब्ध हैं। हर किसी के जहन में यह सवाल है कि आखिर कैसे तीनों की मौत हुई है।

पुलिस को मौके से सुसाइड नोट मिला है। पुलिस के मुताबिक़ प्रथम दृष्टया ये लग रहा है आर्थिक तंगी के चलते ये कदम उठाया गया है। सुसाइड नोट के मुताबिक वह बेरोजगार था। परिवार का खर्च चलाने में परेशानी होती थी।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment