कौन हैं पाकिस्तान के मौलाना अली मिर्ज़ा जिन्होंने नुपुर शर्मा का बचाव किया ?

Spread the love

Engineer Muhammad Ali Mirza: भारत में बीजेपी प्रवक्ता नुपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मोहम्मद को लेकर दिए गए एक अमर्यादित बयान के बाद देशभर में विरोध देखा गया। कई शहरों में हिंसा देखने को मिली। वहीं पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के एक चर्चित मौलाना मोहम्मद अली मिर्ज़ा (Engineer Muhammad Ali Mirza) ने नुपुर शर्मा (Nupur Sharma) का पक्ष लेते हुए टीवी शो में डिबेट के दौरान एक मुस्लिम पेनलिस्ट द्वरा नुपुर को उकसाए जाने को ग़लत बताया।

मोहम्मद अली मिर्ज़ा ने अपने एक यूट्यूब (Engineer Muhammad Ali Mirza youtube) वीडियो में बोलते हुए कहा कि टीवी डिबेट के दौरान पहले एक मुस्लिम पैनलिस्ट द्वारा बार-बार नुपुर शर्मा को उकसाया और हिंदू धर्म के विषय में ग़लत बात की। इस लिय इसका कसूरवार वो मुस्लिम पेनलिस्ट है।

अगर पूरे शो को देखें तो पता चलता है कि नुपुर शर्मा उकसावे वाले सवाल के जवाब में बोल रही हैं। ज़ाहिर है कि पेन्लिस्ट के सवाल ऐसे थे कि कोई भी दूसरे धर्म का आदमी ऐसे जवाब देने पर मजबूर हो जाए।

वीडियो में आगे बोलते हुए मोहम्मद अली मिर्ज़ा (Engineer Muhammad Ali Mirza) ने कहा कि ‘क़ुरान’ में साफ कहा गया है कि आप किसी दूसरे धर्म का मज़ाक नहीं बना सकते,भले ही सामने वाला आपका दुश्मन ही क्यों न हो। मौलाना ने बताया कि जब दूसरे धर्म को लेकर हम चर्चा करें तो सबसे पहले भाषा की मर्यादा का ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है।

नुपुर शर्मा में अरब के विरोध पर मौलाना ने कहा कि अरब के लोग वहां ऐसी कमरों में बैठकर बयान दे रहे हैं। जबकि भारत में लोग भीषण गर्मी में सड़कों पर विरोध कर रहे है और पुलिस विरोध करने वालों इसकी सख्त सज़ा भी दे रही है।

कौन हैं Engineer Muhammad Ali Mirza

पाकिस्तान में मोहम्मद अली मिर्ज़ा को इंजीनियर के नाम से जाना जाता है। पूरे पाकिस्तान में  काफी चर्चित चेहरा हैं। क़ुरान और हदीस पर गहरा अध्ययन कर चुके मौलाना धार्मिक उपदेश देते हैं। अपने बेबाक बोलने के अंदाज़ के चलते ये सोशल मीडिया पर काफी फेमस चेहरा हैं। पाकिस्तान में लाखों युवा इनको अपना रोल मॉडल मानते हैं।

मोहम्मद अली मिर्ज़ा का जन्म पाकिस्तान (Pakistan) के पंजाब के झेलम में 1977 में हुआ। उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। पेशे से वो एक इंजीनियर हैं और इस्लाम को लेकर काफी एक्टिव रहते हैं। धार्मिक मामलों में खुलकर अपनी बात रखने के लिए जाने जाते हैं।

मोहम्मद अली मिर्ज़ा पर दो बार जानलेवा हमला (assassination attempts at Engineer Muhammad Ali Mirza) भी किया जा चुका है। जिसमें वो दोनो बार बचने में कामयाब रहे। पहली बार उनपर 2017 में फिर 2021 में जानलेवा हमला किया गया। हमलावर उनकी तकरीर सुनने के बहाने आया और सेल्फी लेते वक्त चाकू से हमला कर दिया। मौलाना इस हमले में बच गए।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment