IFFCO सहकारिता मंत्रालय द्वारा प्राथमिक कृषि ऋण समितियों के डिजिटलीकरण का ऐतिहासिक कदम

Spread the love

IFFCO : प्रसंस्कृत उर्वरक बनाने वाली विश्व की सबसे बड़ी सहकारी संस्था इफको ने सहकारिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा शुरू किये गये प्राथमिक कृषि ऋण समितियों (पैक्स) के कम्प्यूटरीकरण के ऐतिहासिक कदम का स्वागत किया है। प्राथमिक कृषि ऋण समितियाँ (पैक्स) देश में त्रि-स्तरीय अल्पकालिक सहकारी ऋण (STCC) के सबसे निचले स्तर पर हैं।

इस परियोजना से ग्रामीण आबादी को उच्चस्तरीय डिजिटल तकनीक उपलब्ध होगी। पैक्स के कंप्यूटरीकरण से किसानों विशेष रूप से छोटे और सीमांत किसानों (एसएमएफ) तक सेवाओं की पहुँच बढ़ेगी और यह पैक्स ब्याज अनुदान योजना (आईएसएस), प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, विभिन्न सेवाओं के लिए प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) और उर्वरक, बीज आदि जैसे आदानों के प्रावधान हेतु नोडल सेवा वितरण केंद्र भी बन पाएगा।


इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने इस पहल का स्वागत करते हुए माननीय प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी जी और माननीय गृह सह सहकारिता मंत्री, श्री अमित शाह जी को धन्यवाद और बधाई दी। उन्होंने कहा कि इसके (IFFCO) माध्यम से सुदूर क्षेत्रों में बैठा किसान भी देश की अर्थव्यवस्था से जुड़ जाएगा और इससे देश की ग्रामीण और कृषि अर्थव्यवस्था को और मजबूती मिलेगी।


इफको के अध्यक्ष श्री दिलीप संघाणी ने कहा कि यह भारतीय किसानों और ग्रामीण भारत (IFFCO) को सशक्त बनाने के प्रधानमंत्री मोदी के सहकार से समृद्धि के लक्ष्य की दिशा में एक बड़ा कदम है। उन्होंने आगे कहा कि यह परियोजना पैक्स के संचालन में पारदर्शिता और जवाबदेही लाने के साथ ही व्यवसाय में विविधता लाने और विभिन्न गतिविधियों और सेवाओं को शुरू करने की सुविधा प्रदान करेगी तथा पैक्स के विकास के लिए भी क्रांतिकारी साबित होगी।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment