नुपुर शर्मा विवाद : कुवैत में नहीं है प्रवासियों को प्रदर्शन का अधिकार, देश से निकाला गया!

Spread the love

Kuwait To Deport Indian Expats : नुपुर शर्मा (Nupur Sharma) को लेकर कुवैत (Kuwait) में प्रदर्शन करना प्रवासी भारतीयों को भारी पड़ गया। कुवैत सरकार अब इन प्रदर्शन करने वालों को वापस उनके देश भेज रही है। कुवैत के अधिकारियो ने कहा कि उन सभी को देश से निकाला जा रहा है। जिन प्रवासियों ने यहां नुपुर शर्मा के विरोध में प्रदर्शन किया था।

इन प्रवासियों (Expats) को अपने देश से निकालने पर कुवैत के अधिकारियों (Kuwait authorities) ने कहा-यहां किसी भी तरह का प्रदर्शन करना नियम-क़ानूनों के खिलाफ है। प्रवासी यहां अगर ऐसा करते हैं तो उन्होंने हमारे देश का क़ानून तोड़ा है। हम उन्हें उनके मुल्क वापस भेज रहे हैं। ख़बर के मुताबिक कुवैत की सरकार अपने नागरिकों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई कर सकती है जो इस प्रदर्शन में शामिल थे।

Kuwait To Deport Indian Expats : प्रवासी दोबारा नहीं जा सकेंगे कुवैत

कुवैत में बड़ी संख्या में भारतीय (Indian Expats in Kuwait) काम करते हैं। यहां प्रवासियों को किसी भी तरह का प्रदर्शन करने का अधिकार नहीं है। कुवैत में प्रवासी (expats are not to be organized in Kuwait) प्रदर्शन नहीं कर सकते। अरब टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक अधिकारी प्रदर्शन में शामिल प्रवासियों को गिरफ्तार कर रहे हैं। उन सब की गिरफ्तारी के बाद उन्‍हें डिपोर्टेशन सेंटर में भेज दिया जाएगा (Kuwait To Deport Indian Expats)। जहां से उन्‍हें अपने-अपने देश वापस भेज दिया जाएगा। इसके साथ ही ये लोग दोबारा कभी कुवैत नहीं जा सकेंगे। The expats will be banned from entering Kuwait again

रिपोर्ट के मुताबिक कुवैत के अधिकारियों ने कहा कि जो भी प्रवासी यहां के नियम-क़ानून का सम्मान नहीं करेगा। उसे उसके देश वापस भेज दिया जाएगा। प्रवासियों को हर हाल में कुवैत के क़ानून का सम्मान करना ही होगा। इस प्रदर्शन में किन-किन देशों के नागरिक थे, इसकी जांच जारी है। घटना का कथित वीडियो (Kuwait expats protest video) सोशल मीडिया पर जमकर वायरल है। जिसमें लोग नुपुर शर्मा के खिलाफ नारेबाज़ी करते दिख रहे हैं।

आपको बता दें कि नूपुर शर्मा के बयान पर खाड़ी देशों ने अपना विरोध दर्ज कराया था। कुवैत ने भारतीय राजदूत को तलब कर लिया था। भारत सरकार ने कहा कि कुछ लोग भारत-कुवैत संबंधों में दरार डालने की कोशिश कर रहे हैं। इस कारण लोगों को भड़काया जा रहा है। इसके बाद बीजेपी के तुरंत एक्शन लेते हुए अपने प्रवक्ताओं को निलंबित कर दिया था और कहा था कि प्रवक्‍ताओं के बयान से भारत सरकार का कोई लेना देना नहीं है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment