मध्य प्रदेश में 1100 से अधिक प्राइवेट स्कूल बंद, इनमें RTE के तहत 10,000 गरीब बच्चे कर रहे थे पढ़ाई!

Spread the love

Madhya Pradesh School: कोरोना वायरस महामारी के दौरान लगे लॉकडाउन ने देश दुनिया को आर्थिक रूप से भी काफी क्षती पहुंचाई. वहीं इसका असर उन प्राइवेट स्कूलों पर भी पड़ा है जो आर्थिक तंगी के चलते हुए पहले बदहाल हुए और अब उनमें ताला लग गया है. मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग ने प्रदेश (Madhya Pradesh School) भर में एक हजार से अधिक ऐसे निजी स्कूलों को चिन्हित किया है, जो कोविड महामारी में लगे लॉकडाउन के बाद आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे और फिर इन्हें बंद करना पड़ा. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्राइवेट स्कूलों में शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) के तहत 25 फीसद सीटों पर गरीब परिवार के करीब 10 हजार बच्चों को प्रवेश दिया गया है.

वहीं अब पिछले सत्र में स्कूल बंद होने से इस सत्र में बच्चों का शेक्षणिक भविष्य संकट जूझता नजर आता है. इनमें सबसे अधिक उज्जैन, छतरपुर, ग्वालियर और विदिशा जिले के प्राइवेट स्कूल शामिल हैं. जबकी राजधानी भोपाल के 38 ऐसे स्कूल हैं जिन्हें बंद कर दिया गया है, यहां करीब 132 गरीब बच्चे शिक्षा के अधिकार से वंचित हो गए हैं.

IIMC Delhi में एडमिशन के लिए क्या करें क्या न करें, देखें ये ऑफिशियल वीडियो

वहीं राज्य शिक्षा केंद्र नए सत्र 2022-23 के लिए आरटीई के तहत प्रवेश प्रक्रिया जल्द शुरू करेगा. इसके लिए आवेदन प्रक्रिया 15 जून से शुरू होगी. इस बार भी आवेदन से लेकर दस्तावेज सत्यापन की प्रक्रिया ऑनलाइन ही संपन्‍न होगी. इन स्कूलों के बच्चों को शिक्षा से जोड़ने के लिए राज्य शिक्षा केंद्र ने शासन को प्रस्ताव भेजकर अनुमति ली है. इस साल आरटीई में इन बच्चों को शामिल होने का मौका मिलेगा.

राज्य शिक्षा केंद्र के संचालक धनराजू एस ने बताया कि प्रदेश के 1100 से अधिक स्कूल बंद होने से करीब दस हजार गरीब बच्चे शिक्षा के अधिकार से वंचित हो गए है. इनमें से नर्सरी, केजी और पहली कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों को इस साल आरटीई के तहत लाटरी प्रक्रिया में शामिल किया जाएगा. उन्हें पहली प्राथमिकता से प्रवेश दिए जाएंगे. वहीं दूसरी से आठवीं कक्षा वाले बच्चों के लिए भी फैसले लिए जाएंगे.

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment