Eknath Shinde को CM बना BJP ने एक तीर से लगाए ये पांच निशाने!

Spread the love

Maharashtra: Why BJP made Eknath Shinde CM?: करीब दो हफ्ते तक चले “पॉलिटिकल ड्रामा” के बाद शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. जबकी शिंदे सरकार में बीजेपी नेता और सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. एकनाथ शिंदे का मुख्यमंत्री बनना सभी के लिए हैरान करने वाला है क्योंकि इससे पहले तक कयास जा रहे थे कि फडणवीस मुख्यमंत्री जबकी शिंदे को उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है. लेकिन इस बीच बड़ा सवाल यह है कि बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व प्रधानमंत्री मोदी, गृहमंत्री अमित शाह बीजेपी अध्यक्ष ने एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री क्यों बनाया (Maharashtra: Why BJP made Eknath Shinde CM?). इन पांच बिंदुओं से समझिए कि आखिर एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाने के पीछे बीजेपी की क्या मंशा है?

1) मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी ने आगामी लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया है. एक्सपर्ट की मानें तो केंद्रीय नेतृत्व यह फैसला इसलिए भी अहम हो जाता है जब पार्टी की निगाहें 2024 के लोकसभा चुनावों और उसी साल राज्य में विधानसभा चुनावों की बड़ी लड़ाई पर टिकी हैं. शिंदे मराठा समुदाय से ताल्लुक रखते हैं इससे चुनाव में बीजेपी को फायदा मिल सकता है.

कौन हैं महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, जानिए इन 5 बिंदुओ में

2) बीजेपी यह भी उम्मीद कर रही है महाराष्ट्र का सीएम बनाने से एकनाथ शिंदे क्षेत्रीय भावनाओं को अपने साथ वैसे ही जोड़ पाएंगे जैसे शिवसेना जोड़ती रही है. साथ ही शिवसेना एक हिंदुत्ववादी पार्टी पानी जाती है. बीजेपी की यह रणनीति है कि ऐसा कर के वो शिवसेना को नुकसान पहुंचा पाएगी.

3) राजनीतिक गलियारों में ऐसी भी चर्चा है कि बीजेपी शिवसेना को कमजोर कर इसे ठाकरे परिवार की पहचान से बाहर निकालना चाहती है. बीजेपी ने एक मराठा को मुख्यमंत्री बनाकर ठाकरे परिवार के सामने एक बड़ा चैलेंज दिया है.

यह भी पढ़ें: Eknath Shinde होंगे महाराष्ट्र के नए मुख्यंत्री, Devendra Fadnavis ने की बड़ी घोषणा!

4) राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और शिवसेना जैसे क्षेत्रीय दल महाराष्ट्र की सबसे प्रभावशाली मानी जाने वाले मराठा समुदाय पर मजबूत पकड़ रखते हैं और शिंदे खुद एक मराठा है. ऐसे में बीजेपी की कोशिश मराठा समुदाय में ध्रवीयकरण करने की है. इसका नतीजा आगामी चुनावों में देखने को मिल सकता है.

5) मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आगामी दिनों में शिवसेना के इन दो धड़ों सियासी जंग और तेज हो सकती है. पार्टी के चुनाव चिन्ह को लेकर भी दोनों खेमें आमने सामने है साथी दो खेमों में बटी पार्टी का सीधा फायदा बीजेपी को होगा.

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment