इस वरिष्ठ मंत्री ने कहा- ‘संविधान जनता को लूटने के लिए बना है’

Spread the love

देश के संविधान को लेकर केरल के मंत्री साजी चेरियन ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने संविधान की तीखी आलोचना करते हुए कहा है कि यह शोषण करने वालों को माफ करता है। संविधान ऐसा लिखा गया है जिसकी मदद से ज्यादा से ज्यादा लोगों को लूटा जा सके। पिनराई विजयन सरकार के वरिष्ठ मंत्री के बाद मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस सहित अन्य लोगों ने उनके इस बयान की आलोचना शुरू करते हुए क़ानूनी कार्रवाई की मांग शुरू कर दी है। बीजेपी ने चेरियन को बर्खास्त करने की मांग की है।

केरल के अलाप्पुझा जिले के चेंगन्नूर विधानसभा क्षेत्र से दो बार के विधायक चेरियन केरल सरकार में संस्कृति एवं मछली पालन विभाग के मंत्री हैं। मंगलवार को क्षेत्रीय टेलीविजन चैनलों के इस भाषण को प्रसारित करने के बाद यह मुद्दा गरमा गया। उन्होंने दक्षिणी जिले के मल्लापल्ली में हाल ही में आयोजित एक राजनीतिक कार्यक्रम में यह बयान दिया।

संविधान का उद्देश्य आम आदमी का शोषण है

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, चेरियन ने कार्यक्रम में कहा, “मानवता की शुरुआत से ही शोषण मौजूद है। मौजूदा समय में अमीर लोग दुनिया पर जीत हासिल कर रहे हैं। सब कहेंगे कि हमारे पास बेहतरीन तरीके से लिखा हुआ संविधान है लेकिन मैं कहूंगा कि देश का संविधान इस तरह से लिखा गया है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को लूटा जा सके।”

यह पिछले 75 वर्षों से लागू है। मैं कहूंगा कि यह देश की जनता को लूटने के लिए एक सुंदर संविधान है। चेरियन ने आगे कहा कि अंग्रेजों ने जो तैयार किया था, उसे भारतीयों ने लिख दिया है। हालांकि संविधान में लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता जैसी कुछ अच्छी चीजों के अंश भी हैं, लेकिन इसका उद्देश्य आम आदमी का शोषण करना है।

केरल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष वी.डी. सतीशन ने कहा कि अगर सीएम विजयन चेरियन के खिलाफ कार्रवाई नहीं करते हैं तो हम कानून का सहारा लेंगे। टाइम्स नाउ के मुताबिक, बीजेपी के केजे अल्फोंस ने चेरियन के ‘कहा कि मुख्यमंत्री पिनराई विजयन को उन्हें तुरंत बर्खास्त कर देना चाहिए या फिर राज्यपाल को सीएम की सिफारिश करनी चाहिए कि वह अपने मंत्री को बर्खास्त करें। कैबिनेट मंत्री ने एक जनप्रतिनिधि होने के नाते संविधान की रक्षा की शपथ ली थी, उसके बावजूद वह संविधान का मजाक उड़ा रहे हैं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment