जोश और जज्बे के साथ क्रिकेट खेलती दृष्टि बाधित लड़कियां

Visually Impaired Girls Playing Cricket With Passion And Emotion

Ruby Sarkar | Bhopal, MP| इन दिनों केंद्र सरकार द्वारा आयोजित खेलों इंडिया का जुनून लोगों के सर चढ़कर बोल रहा है. यह देश के कोने कोने में खेलने का जज़्बा रखने वाले हर उम्र के खिलाडियों को प्रेरित कर रहा है. दृष्टि बाधित लड़कियां (Visually Impaired Girls Cricket) भी इससे इतनी प्रेरित हुईं कि … Read more

उत्तराखंड में ग्रामीण स्तर पर स्वास्थ्य सुविधा की दुर्दशा

health facilities in villages

Narendra Singh Bisht | Nainital, Uttarakhand | पहाड़ी राज्य उत्तराखंड का गठन हुए 21 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं. परन्तु आज भी यहां के ग्रामीण क्षेत्रों के लोग छोटी-छोटी बीमारियों के लिए भी मैदानी जिलों के अस्पतालों पर निर्भर हैं. (health facilities in village) राज्य में डॉक्टरों की कमी व आधुनिक सुविधाओं का अभाव 2021-22 … Read more

हुनर से बेजान गुड़ियों में फूंक रही हैं जान

shobha doll maker muzaffarpur

सौम्या ज्योत्सना | मुज़फ़्फ़रपुर, बिहार | बचपन में हम सबने गुड्डे-गुड़ियों (Doll makers in India) का खेल खेला है. ऐसे भी छोटे-छोटे मनमोहक गुड्डे-गुड़ियों को देखकर सबका मन इसे दुलारने और हाथों में लेने के लिए उत्सुक हो जाता है, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिनके लिए यह एक महज आकर्षण नहीं बल्कि अपनी पहचान बनाने … Read more

Rural Report: रेत के धोरों में जल की खोज

रेत के धोरों में जल water in sand dunes

Water in Sand Dunes| बीकानेर | दिलीप बीदावत | वैसे तो राजस्थान के अलग-अलग क्षेत्रों में विविध प्रकार के पानी के पारंपरिक जल स्रोतों का निर्माण समुदाय द्वारा किया गया है. क्षेत्र की सतही एवं भूगर्भीय संरचना बरसात की मात्रा के अनुसार किस प्रकार के जल स्त्रोत बनाए जा सकते हैं, यह ज्ञान उस जमाने … Read more

Sports in Village: मैदान के बिना कैसे होगा अभ्यास?

sports in Village

गरिमा उपाध्याय | धूरकुट, कपकोट | उत्तराखंड| हरियाणा में जारी खेलो इंडिया यूथ गेम्स में युवा खिलाडियों का शानदार प्रदर्शन जारी है. सुखद बात यह है कि इसमें लड़कों के साथ साथ लड़कियां भी विभिन्न प्रतिस्पर्धाओं में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखा रही हैं और अपने अपने राज्यों के लिए पदकों की झड़ियां लगा रही हैं. … Read more

मूलभूत सुविधा भी नहीं है गांव के स्कूलों में

There is no basic facility in Uttarakhand's village schools

चित्रा जोशी | उत्तरौड़ा, कपकोट | उत्तराखंड | आज़ादी के बाद से ही देश में शिक्षा का स्तर बढ़ाने के लिए कई योजनाएं चलाई गई हैं. मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा अधिनियम लागू किया गया, समग्र शिक्षा अभियान चलाया गया, स्कूलों में मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था की गई, बच्चों के लिए मुफ्त ड्रेस और किताबों की व्यवस्था की गई, स्कूल चले … Read more

मुजफ्फरपुर : रेत पर अमरूद की खेती कर कृषि को नया आयाम देते किसान

Farmers giving a new dimension to agriculture by cultivating guava on sand

फूलदेव पटेल | मुजफ्फरपुर, बिहार | खेती किसानी अर्थव्यवस्था का मेरुदंड है. प्रत्येक देश का विकास कृषि उत्पादन पर निर्भर है. महामारी के दौरान खेती किसानी ही भारत की बड़ी आबादी के लिए ईंधन का काम किया है. अच्छे मौसम की वजह से रबी और खरीफ फसलों का उत्पादन भी बेहतर हुआ है. यह जरूर है … Read more

मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़, कर रहे प्राकृतिक खेती

Leaving multinational company's job for Natural farming

रूबी सरकार | भोपाल, मप्र | दिल्ली-एनसीआर, गुरुग्राम के प्रदूषित हवा से तंग आकर कुछ युवा अपने गांव वापस लौटकर न केवल प्राकृतिक खेती को अपना आजीविका का साधन बनाया बल्कि गांव के किसानों को भी इसी ओर प्रेरित कर रहे हैं. इनमें भोपाल के इंजीनियर शशिभूषण, पीएचडी फार्मा अनुज, सुधांशु और सुष्मिता और आईआईटी कानपुर, आईआईएम लखनऊ तथा इंफोसिस … Read more

पितृसत्ता के बोझ तले दबी स्त्री

Women buried under the burden of Patriarchy

खुशबू बोरा | पिंगलो, गरुड़ | बागेश्वर, उत्तराखंड | भारतीय समाज एक पुरुष प्रधान समाज रहा है, जहां पुरूषों को महिलाओं की तुलना में ज्यादा अधिकार दिए गए हैं. पितृसत्तात्मक समाज के अंतर्गत भारतीय समाज में पुरुषों को महिलाओं की तुलना में सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक और धार्मिक रूप से श्रेष्ठता दी गई है. इसमें हमेशा से पुरुषों का वर्चस्व रहा … Read more

बिजनेस में अपनी पहचान बनाती घरेलू महिलाएं

women entrepreneur india

सौम्या ज्योत्सना | मुजफ्फरपुर, बिहार | अक्सर यह माना जाता है कि शादी के बाद महिलाओं का करियर समाप्त हो जाता है क्योंकि घर और बच्चों से उसे फुर्सत ही नहीं मिलेगी कि वह अपने सपनों को पूरा करने के बारे में सोचे. लेकिन जैसे जैसे वक़्त बदल रहा है यह धारणा गलत साबित होती … Read more