पितृसत्ता के बोझ तले दबी स्त्री

Women buried under the burden of Patriarchy

खुशबू बोरा | पिंगलो, गरुड़ | बागेश्वर, उत्तराखंड | भारतीय समाज एक पुरुष प्रधान समाज रहा है, जहां पुरूषों को महिलाओं की तुलना में ज्यादा अधिकार दिए गए हैं. पितृसत्तात्मक समाज के अंतर्गत भारतीय समाज में पुरुषों को महिलाओं की तुलना में सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक और धार्मिक रूप से श्रेष्ठता दी गई है. इसमें हमेशा से पुरुषों का वर्चस्व रहा … Read more

बिजनेस में अपनी पहचान बनाती घरेलू महिलाएं

women entrepreneur india

सौम्या ज्योत्सना | मुजफ्फरपुर, बिहार | अक्सर यह माना जाता है कि शादी के बाद महिलाओं का करियर समाप्त हो जाता है क्योंकि घर और बच्चों से उसे फुर्सत ही नहीं मिलेगी कि वह अपने सपनों को पूरा करने के बारे में सोचे. लेकिन जैसे जैसे वक़्त बदल रहा है यह धारणा गलत साबित होती … Read more