आनंद महिंद्रा ने ‘अग्निवीरों’ को लेकर ऐसा क्या कहा जिससे बवाल मच गया?

Spread the love

आनंद महिंद्रा : केंद्र सरकार की सेना में भर्ती को लेकर जारी अग्निपथ योजना का विरोध देशभर में जारी है। अभ्यार्थी इस योजना को वापस लिय जाने की मांग कर रहे हैं। देश के कई राज्यों में हिंसा भी जारी है। इस बीच जाने-माने उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने ट्वीट करके कहा कि वो अग्निवीरों अपनी कंपनी में नौकरी देंगे।

आनंद महिंद्रा ने ट्वीट करते हुए लिखा कि अग्निपथ स्कीम के ऐलान के बाद हुई हिंसा से मैं काफी दुखी और निराश हूं। पिछले साल जब इस योजना पर विचार किया जा रहा था, उस वक्त मैंने कहा था कि अग्निवीर को जो अनुशासन और कौशल मिलेगा वह उन्हें निश्चित तौर से रोजगार के योग्य बनाएगा। उन्होंने आगे लिखा कि महिंद्रा ग्रुप इस तरह के प्रशिक्षित और सक्षम युवाओं को नौकरी का मौका देगा।

आनंद महिंद्रा की सोशल मीडिया पर हो रही आलोचना

इस योजना के खिलाफ देश के कई राज्यों में हिंसक प्रदर्शन जारी है। प्रदर्शनकारियों ने कई ट्रेन और गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। करोड़ों की सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। अग्निपथ योजना के विरोध को देखते हुए असम, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हरियाणा, अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड और कर्नाटक जैसी कई राज्य सरकारों ने राज्य सरकार की नौकरियों में अग्निवीरों को प्राथमिकता देने का ऐलान किया है। लेकिन प्रदर्शकारी इस योजना को वापस लिय जाने पर अड़े हुए हैं।

वहीं सेना ने सांझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कल साफ कर दिया कि अग्निपथ स्कीम को किसी भी सूरत में वापस नहीं लिया जाएगा। इस योजना के लिए साल 1989 में रिफॉर्म पर काम शुरू हुआ था। इसके लिए बाहर के देशों की स्टडी की। इसको लेकर भ्रम फैलाया जा रहा है। हिंसा फैला रहे लोग सेना में नहीं आ सकते है। सेना का मतलब अनुशासन होता है। हिंसा करने वालों के लिय यहां जगह नहीं है।

सोशल मीडिया पर आनंद महिंद्रा के इस बयान की जमकर आलोचना हो रही है। लोग लिख रहे हैं कि महिंद्रा अग्निवीरों के अपनी कंपनी में गार्ड की नौकरी देने की बात कर रहे हैं। किसी ने लिखा कि सरकार को बचाने के लिय आगे आकर ऐसा ऐलान कर दिया। सोशल मीडिया पर आनंद महिंद्रा के इस बायन के बाद लोग उनको सरकार का खिलाड़ी तक बता रहे हैं।

वायुसेना ने अग्निवीरों की भर्ती गाइडलाइन की जारी

  • अग्निवीरों को अपनी चार साल की नौकरी पूरी करनी होगी। इससे पहले वह फोर्स नहीं छोड़ सकेंगे। ऐसा करने के लिए उन्हें अधिकारी की सहमति लेनी होगी।
  • एयरफोर्स ने बताया कि अग्निवीर सभी सैन्य सम्मान और पुरस्कार के हकदार होंगे। इन्हें साल में तीस दिन की छुट्‌टी भी दी जाएगी। इसके अलावा मेडिकल लीव भी मिलेगी।
  • अग्निवीरों में 17.5 साल से 21 साल तक के युवाओं को फिजिकल फिटनेस और शैक्षिक योग्यता के आधार पर भर्ती किया जाएगा।
  • 18 साल से कम आयु वाले अभ्यर्थियों को अपने माता-पिता या अभिभावक की स्वीकृति जरूरी होगी। नियुक्ति चार साल के लिए होगी।
  • अग्निवीरों को किसी भी सेना में शामिल का अधिकार नहीं मिलेगा। इनका फोर्स या अन्य जॉब में सिलेक्शन सरकारी नियमों के तहत ही होगा।
  • अग्निवीरों को कहीं भी किसी भी प्रकार की ड्यूटी पर भेजा जा सकता है। ड्यूटी के दौरान अग्निवीरों को सभी प्रकार की मेडिकल सुविधाएं दी जाएंगी।
  • अग्निवीरों को पहले साल तीस हजार रुपए महीने वेतन मिलेगा। इसके अलावा ड्रेस और ट्रेवल अलाउंस भी दिया जाएगा।
  • ड्यूटी के दौरान अगर अग्निवीर का निधन हो जाता है तो उन्हें बीमा की रकम मिलेगी। इसके अलावा उनके बचे हुए कार्यकाल का वेतन भी मिलेगा।

विरोध के बीच भारतीय थल सेना ने भी ‘​अग्निपथ योजना’ के तहत अग्निवीरों की भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। जुलाई के पहले सप्ताह से अग्निवीर भर्ती रैली के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू होगी। रैली भर्ती के बारे में पूरी डिटेल जल्द ही भारतीय सेना अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड करेगी।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment