कौन हैं महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, जानिए इन 5 बिंदुओ में

Spread the love

Who is Eknath Shinde: बीजेपी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे (Maharashtra New Chief Minister Eknath Shinde) को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री घोषित कर सभी को चौंका दिया है. इस खबर को सुन हर कोई हैरान है कोई भी इस बात का अंदाजा नहीं लगा पाया था. इससे पहले तक कयास लगाए जा रहे थे कि फड़णवीस मुख्यमंत्री (Devendra Fadnavis) होंगे जबकी एकनाथ शिंदे (Shivsena Eknath Shinde) उप-मुख्यमंत्री हो सकते हैं. लेकिन 50 सीटें होने के बावजूद बीजेपी ने एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का नया मुख्यमंत्री (CM Eknath Shinde) घोषित कर बड़ा दाव खेला है. आखिर कौन है महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री एक नाथ शिंदे (Who is Eknath Shinde) जानिए इस खबर में.

1) बता दें कि वर्ष 1980 से साल 2000 तक शिंदे ने शिवसेना की दिल से सेवा की और उसे आगे बढ़ाने में तन-मन-धन से सेवा की. वर्ष 1997 में शिंदे ठाणे नगर निगम के कॉर्पोरेटर बने. इसके बाद शिंदे शिवसेना में चमकने लगे थे. एक्सपर्ट की मानें तो यहीं से शिंदे की राजनीतिक का टर्निंग प्वाइंट शुरू हुआ और वो उभरकर पार्टी की नजरों में आएं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 26 अगस्त 2001 में शिवसेना के महानायक आनंद दीगे की अचानक मौत हो गई.

यह भी पढ़ें: Eknath Shinde होंगे महाराष्ट्र के नए मुख्यंत्री, Devendra Fadnavis ने की बड़ी घोषणा!

2) माना जाता है कि दीगे की मौत के बाद शिवसेना को अपना दबदबा बनाए रखने के लिए एक नए चेहरे की तलाश थी. इसके बाद एकनाथ शिंदे को आनंद दीगे की राजनितिक विरासत सौंप दी गई. इसके बाद ठाणे महाराष्ट्र की राजनीति का केंद्र बन गया.

3) वर्ष 2004 में शिंदे ने पहली बार विधानसभा का चुनाव लड़ा और विधायक बने. इसके बाद 2009, 2014, 2019 लगातार जीत दर्ज की. बता दें कि साल 2014 में बीजेपी की सरकार के दौरान शिंदे कांग्रेस के खिलाफ नेता प्रतिपक्ष भी बने थे. तत्कालीन सीएम देवेंद्र फडणवीस ने उन्हें PWD मंत्री बनाया था. वहीं इसके बाद 2019 में जब महाविकास अघाड़ी (शिवसेना-कांग्रेस-NCP) की सरकार बनी तो एकनाथ शिंदे ने इसका विरोध किया. शिंदे चाहते की सरकार शिवसेना और बीजेपी की बने. लेकिन उनकी चली नहीं.

देश के किस राज्य में कितने मंदिर, ये है सबसे अधिक मंदिर वाला प्रदेश ; देखें पूरे आंकड़े

4) शिवसेना में शिंदे उद्धव ठाकरे से ज़्यादा अनुभवी और काबिल नेता माने जाते हैं. राजनीतिक गलियारों में ऐसी भी चर्चा है कि जब से शिवसेना ने महाराष्ट्र में सत्ता हथियाने के लिए बालासाहेब के उसूलों के खिलाफ जाकर कांग्रेस और एनसीपी का साथ लिया तभी से एकनाथ शिंदे को उद्धव खटकने लगे थे.

5) मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तत्कालीन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे शिवसेना के विधायकों को कम तवज्जो देते थे और कांग्रेस के MLA की ज्यादा सुनते थे. लेकिन शिंदे हमेशा अपने विधायकों के साथ खड़े रहते थे.

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment