क्यों अमीर भारतीय छोड़ रहे देश, 2014 से अब तक 23 हज़ार ने छोड़ा मुल्क!

Spread the love

Why rich Indians are leaving the country : भारत दुनिया के उन शीर्ष 10 देशों में शामिल है,जहां से साल 2022 में सबसे अधिक करोड़पति देश छोड़ विदेश में जाकर बसने की तैयारी में हैं । भारत से अधिक रूस-चीन के करोड़पति नागरिक अपना देश छोड़कर गए। साल 2022 में 8000 लोग भारत छोड़कर निकलने की तैयारी में जुटे हैं। इससे पहले के सालों में भी कई हजार अमीर देश छोड़कर विदेश जा चुके हैं। आएये जानते हैं क्यों इतनी अधिक संख्या में देश छोड़कर जा रहे अमीर भारतीय।

Why rich Indians are leaving the country : वर्ष 2022 में करीब 8000 अमीर भारतीय देश को छोड़कर विदेशों में सबने की तैयारी कर रहे हैं। फर्म हेनले एंड पार्टनर्स (एचएंडपी) की एक रिपोर्ट में ये खुलासा किया गया। भारत के अलावा रूस, चीन, हॉन्गकॉन्ग, यूक्रेन से भी बड़ी मात्रा में करोड़पति दूसरे देश बसने की तैयारी में हैं। 2019 में देश से 7,000 एचएनआइ ने पलायन किया था, यह संख्या इससे 14% अधिक है।

भारत विश्व के उन शीर्ष 10 देशों में शामिल है, जहां से वर्ष 2022 में सबसे अधिक अमीर देश छोड़ने की तैयारी में जुटे हैं। ब्रिटिश फर्म हेनली एंड पाटनर्स ने अपनी एक रिपोर्ट में भारतीयों से जुड़ा आंकड़ा दिया है।  एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2014 से अब तक 23,000 अमीर भारतीय विदेशों में बस चुके हैं। अमीरों के पलायन के मामले में भारत चीन के बाद दूसरे स्थान पर है।

अमीर भारतीयों के देश छोड़ने क्या है मुख्य कारण

Why rich Indians are leaving the country

एचएंडपी के अनुसार, भारत से अमीरों के पलायन की मुख्य वजह टैक्स से जुड़े सख्त नियम भी हैं। वे बेहतर काम करने और रहने की स्थिति की तलाश में अच्छे पेशेवर लोग भारत छोड़ रहे हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक अधिक भारतीय युवा अन्य देशों में बिजनेस-निवेश की संभावनाएं तलाशने में जुटेे हैं। भारतीय अमीर ऐसे देशों का रुख करना चाहते हैं जहां का पासपोर्ट मजबूत माना जाता है। साथ ही बेहतर लाइफस्टाइल, एजुकेशन और हेल्थ सर्विसेज के कारण भी कई करोड़पति भारतीय दूसरे देशों को अपना आशियाना बनाने की तैयारी में हैं।

एक रिपोर्ट बताती है कि लोग एक समय के बाद भारत लौट आते हैं। एक अन्य रिपोर्ट में यह कहा गया है कि यह भारत के लिए चिंता की बात नहीं है क्योंकि इससे कहीं अधिक करोड़पति भारत में उभर रहे हैं। वहीं वर्ष 2031 तक भारत में करोड़पतियों की संख्या 80% बढ़ने की उम्मीद है।

ज़्यादातर करोड़पति भारतीय दुबई,यूरोप और सिंगापुर में बसना चाहते हैं। इसकी वजह है वहां का मजबूत लीगल सिस्टम। भारतीयों को दुबई का गोल्डन वीजा भी अधिक प्रभावित कर रहा है। दुनिया के सबसे ज्यादा विदेशी यूएई में बसने जा रहे हैं। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर का नंबर है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Comment